Sunday, August 18

कल्पना अवस्थी ने की गाजियाबाद में विकास कार्यों की समीक्षा

0
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

राहुल शर्मा

गाजियाबाद। कलेक्ट्रेट सभागार में प्रमुख सचिव आबकारी वन एवं पर्यावरण कल्पना अवस्थी की अध्यक्षता में करकरेत्तर एवं विकास कार्यों की समीक्षा बैठक आयोजित की गई। बैठक को सम्बोधित करते हुये नोडल अधिकारी ने सभी विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिये कि शासन द्वारा विभागों को जो लक्ष्य आवंटित किये गये है उनका शतप्रतिशत अनुपालन हेतु आवश्यक है कि शुरू से ही अभियान के रूप में कार्य किया जाये। उन्होंने सभी विभागों को निर्देशित किया कि बकाया वसूली में तहसील के माध्यम से तेजी लाये। विद्युत विभाग के अधिकारियों ने प्रमुख सचिव को बताया कि सौभाग्य योजना के अन्तर्गत शासन द्वारा 10595 का लक्ष्य निर्धारित था। विद्युत विभाग द्वारा लक्ष्य से बढ़कर 18691 विद्युत कनेक्शन ग्रामीण क्षेत्रों में प्रदान किये गये है। प्रमुख सचिव ने कहा कि सभी विभाग इसी प्रकार लक्ष्य से बढ़कर राजस्व वसूली बढ़ायें।

 विकास कार्यों की समीक्षा के दौरान प्रमुख सचिव ने शासन के विकास प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों की विभागवार/योजनावार गहन समीक्षा की। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण के अन्तर्गत चिकित्सकों/दवाओं की उपलब्धता स्वास्थ्य सेवाओं की स्थिति टीकाकरण आदि तथा पंचायतीराज विभाग के अन्तर्गत राज्य/14वां वित्त आयोग समाज कल्याण के अन्तर्गत छात्रवृत्ति, वितरण योजना, पेंशन योजना, (भौतिक, वित्तीय) दिव्यांगजन सशक्तिकरण पेंशन योजना प्रोबेशन विभाग की 181 महिला हेल्प लाईन योजना, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना आधार प्रमाणीकरण के माध्यम से खाद्यान्न वितरण की प्रगति की अद्यतन्न समीक्षा की। उन्होंने कहा कि उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों व निजी स्कूलों के बाहर महिला हेल्प लाइन नं. उपलब्ध रहे राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत संचालित समूहों द्वारा यूनिफोम सिलाई व नर्सरी का कार्य किया जाये। प्रमुख सचिव को अधिशासी अभियन्ता जल निगम ने बताया कि पेयजल मिशन में दो योजनाए निर्माणाधीन है। जिनमें से एक योजना को माह अगस्त 2019 में पूर्ण कर दिया जायेगा। 

जलापूर्ति में भौतिक प्रगति कम होने के कारण प्रमुख सचिव ने नाराजगी व्यक्त की। प्रमुख सचिव ने कहा कि निर्माणधीन कार्यों को समाप्ति की ओर ले जाये 70 प्रतिशत हुये कार्यों को 100 प्रतिशत तक करें। छोटे-छोटे प्रोजेक्ट को समय सीमा अवधि में पूर्ण करें।पारदर्शी किसान योजना के अन्तर्गत प्रमुख सचिव ने कहा कि किसानों को बल्क मैसिज करके पौधेरोपित करने हेतु लक्ष्य प्रदान करें। गांधी वाटिका के नाम से 10,000 पौधों की वाटिका विकसित कर ली जाये। इससे पूर्व डेढ़ फुट के गढ्ढे खोदकर दिखाये तभी वो इस इस योजना के पात्र होगें। 30 जून तक यह कार्य प्रत्येक दशा में पूर्ण हो जाना चाहिए। उसके उपरान्त उपयुक्त पौधेरोपित किये जायें। उन्होंने निर्देशित किया कि जहां भी नर्सरी स्थापित है वहां वर्मी कम्पोस्ट का उपयोग कराया जाये। उन्होंने जिला कृषि अधिकारी को निर्देशित किया कि अच्छी गुणवत्ता वाले बीज ही किसानों को उपलब्ध कराये जाये। प्रधानमंत्री शहरी आवास योजना के अन्तर्गत परियोजना अधिकारी डूडा ने प्रमुख सचिव को बताया कि 27559 आवासों की डी0पी0आर0 शासन द्वारा स्वीकृत की जा चुकी है जिसके सापेक्ष 1038 लाभार्थियों को प्रथम किस्त प्रदान की जा चुकी है और 1683 आवास तैयार किये जा चुके हैं प्रमुख सचिव ने आवास विकास परिषद के अधिकारी को निर्देशित किया कि वे समय सारिणी बनाये कितने आवास उनके द्वारा बनाये जा चुके है व कितने अपूर्ण है।

वन विभाग की समीक्षा करते हुये प्रमुख सचिव ने कहा कि मा0 मुख्यमंत्री जी की प्राथमिकता वाले कार्यक्रम पौधारोपण वृहद्व स्तर पर पौधेरोपित करने की सरकार की योजना है। जो तत्काल प्रभाव से लागू है। वन विभाग के प्रतिनिधि ने कहा कि 08 लाखा 26 हजार गढ्ढे खुदान का लक्ष्य है जिसमें 04 लाख 95 हजार गढ्ढे खोदें जा चुके है। गढ्ढा खुदान की कम प्रगति पर प्रमुख सचिव गम्भीर दिखी उन्होंने कहा कि पौधारोपण योजना के तहत सभी विभाग पारदर्शिता के साथ कार्य करें खानापूर्ति न की जाये, कार्य प्रभावी हो। विभागों द्वारा जियो टैगिंग की कम प्रगति पर प्रमुख सचिव ने सभी विभागों को जियो टैगिंग का लक्ष्य पूर्ण करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि मा0 मंत्री जी प्रत्येक जनपद में जाकर स्थलीय निरीक्षण करेगें। इस कार्य को अतिरिक्त समय देकर पूर्ण करें। प्रमुख सचिव ने बारावंकी की घटना को देखते हुये वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से विचार विमर्श करते हुये कहा कि अवैध शराब छापेमारी कर विधिवत् सख्त कदम उठाने की आवश्यकता है। अन्य राज्यों से आ रहे मिथाईल एल्काॅहल को पूर्णतः प्रतिबन्धित किया जाये जो वाहन इसमे संलिप्त है उनपर छापेमारी कर कार्यवाही की जाये।

बैठक में जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक उपेन्द्र अग्रवाल, मुख्य विकास अधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, जिला विकास अधिकारी, परियोजना निर्देशक, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका परिषद मोदीनगर, अधिशासी अभियन्ता लोक निर्माण विभाग, अधिशासी अभियन्ता विद्युत, जिला प्रोबेशन अधिकारी, जिला पंचायती राज अधिकारी, समाज कल्याण अधिकारी, जिला गन्ना अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, परियोजना अधिकारी डूडा, नगर निगम व आवास विकास परिषद के अधिकारी उपस्थित रहे।

Share.

Leave A Reply