Saturday, July 20

मिलावटखारों से निपटने के लिए बने कड़े कानूनः रेखा रानी

0
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

खाद्य पदार्थों में बढ़ती मिलावट खोरी लोगों के स्वास्थ्य पर बुरा असर डाल रही हैं और इससे लोग गंभीर बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं प्रशासन भी मिलावट खोरी को लेकर गंभीर नजर नहीं आता। मिलावटी खाद्य पदार्थों से हमारे शरीर में लगातार जहर पहुंच रहा है जिससे कैंसर जैसी गंभीर बीमारियां हो रही हैं फलों और सब्जियों को पकाने और ताजा रखने के लिए केमिकल और रंगों का इस्तेमाल किया जा रहा है यह केमिकल शरीर के लिए बेहद खतरनाक है और धीमे जहर का काम कर रहा हैं। बाजार में मिलने वाले शुद्ध घी के नाम पर मिलावटी घी घर-घर पहुंच रहा है इसमें वनस्पति घी, तेल और केमिकल आदि मिलाए जा रहे हैं जो हमारे आतों को नुकसान पहुंचाते हैं और केमिकल हमारे लीवर को नुकसान पहुंचाता है। लंबे समय तक उपयोग के कारण अन्य रोग भी हो रहे हैं। दूध का उत्पादन बढ़ाने के लिए पशुओं में इंजेक्शन लगाए जाते हैं।

दूध में यूरिया पानी आदि मिलाया जाता है दूध को गाढ़ा करने के लिए सिंथेटिक पाउडर भी प्रयोग किया जा रहा है मिलावटी सामग्री के प्रयोग से किडनी लीवर और अन्य अंगों पर दुष्प्रभाव बढ़ रहे हैं। हमारे कानून में मिलावट खोरी के लिए कड़े प्रावधान है फिर भी मिलावट खोर बड़ी आसानी से बच निकलते हैं। प्रशासन की अनदेखी से इस विभाग के ऑफिसर कर्मचारी किसी मिलावट खोर को छापेमारी के दौरान या तो पकड़ते नहीं है और अगर पकड़े भी जाते हैं तो कमजोर से केस दर्ज करके मामूली से जुर्माने की राशि भरकर छोड़ दिए जाते हैं। इसके लिए लोगों में जागरुकता बढ़ाने की जरूरत है और प्रशासन द्वारा गंभीरता से इस पर कड़े कदम उठाए जाने चाहिए ताकि लोगों के स्वास्थ्य पर बुरा असर ना पड़े।

Share.

Leave A Reply