Loading...
Mon, Nov 29, 2021
Breaking News
image
पार्कों एवं स्मारकों का निर्माण न कराकर उत्‍तर प्रदेश के विकास करने पर दिया जोर /08 Sep 2021 02:51 AM/    52 views

मायावती का दावा. सत्ता में आने के बाद उप्र की बदल दूंगी तस्वीर

पवन शर्मा
लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी बसपा की अध्यक्ष मायावती ने अगले वर्ष की शुरुआत में उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव में सत्ता में आने के बाद पार्कों एवं स्मारकों का निर्माण न कराकर उत्‍तर प्रदेश के विकास करने पर जोर दिया और दावा किया कि वह उत्‍तर प्रदेश की तस्‍वीर बदल देंगी। यहां पार्टी मुख्यालय में प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने 2007 के शानदार परिणामों को दोहराने के लिए दलितों और ब्राह्मणों के बीच एक मजबूत एकता बनाने का आह्वान किया। मायावती ने करीब डेढ़ माह से ब्राह्मणों को साधने के लिए पार्टी द्वारा चलाये जा रहे प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन के पहले चरण के समापन पर लखनऊ बसपा मुख्यालय में राज्य के सभी जिलों से आए लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि 2022 में उत्तर प्रदेश में सत्ता में आने पर वह विकास और कानून का राज स्थापित कर उत्तर प्रदेश की तस्वीर बदलने पर ध्यान देंगी। समाज में समानता के लिए काम करने वाले महापुरुषों के सम्मान में स्मारकों और पार्कों की स्थापना से संबंधित सभी कार्य मैं पहले ही पूरा कर चुकी हूं।
उन्‍होंने कहा कि अब जब उत्तर प्रदेश में पांचवीं बार बसपा की सरकार बनेगी तो तब मेरी पूरी ताकत अब स्‍मारकए संग्रहालय पार्क और मूर्ति आदि बनाने में नहीं लगेगी बल्कि मेरी पूरी ताकत राज्य की जो मौजूदा तस्‍वीर है उसको बदलने में ही लगेगी ताकि पूरा देश यह कहे पूरी दुनिया यह कहे कि शासन हो तो बसपा के शासन की तरह होना चाहिए। बड़ी संख्या में पार्टी कार्यकर्ताओं और समर्थकों की उपस्थिति में बसपा प्रमुख ने यह साफ किया कि जिन संतों और महापुरुषों के नाम पर उन्होंने अपनी पिछली सरकारों के दौरान पार्क और स्मारक स्थापित किए थे, वे किसी जाति विशेष धर्म के खिलाफ नहीं थे बल्कि असमानता पर आधारित सामाजिक व्यवस्था के खिलाफ थे। बसपा ने 2007 में 403 सदस्यीय विधानसभा में 206 सीटें जीतकर अपने दम पर सरकार बनाई थी और तब जीत का श्रेय मुख्य रूप से दलितों.ब्राह्मणों की एकता बनाकर उनकी सोशल इंजीनियरिंग को दिया गया था। बसपा प्रमुख ने भारतीय जनता पार्टी ;भाजपाद्ध और समाजवादी पार्टी सपा पर केवल बड़े.बड़े दावे करने और जमीनी स्तर पर कुछ नहीं करने का आरोप लगाते हुए बसपा को फ‍िर से सत्‍ता में लाने के लिए दलित.ब्राह्मण एकता का आह्वान किया। 

Leave a Comment