Saturday, July 11

कोरोना मरीजों के परिवारों को 10,000 रुपये की सहायता दे दिल्ली सरकारः चौ. अनिल कुमार

0
44Shares

अनिल कुमार शर्मा
नई दिल्ली। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार ने केन्द्र की भाजपा सरकार और केजरीवाल की दिल्ली सरकार की पेट्रोल और डीजल की लगातार कीमतों को बढ़ाने पर कड़ी निंदा की। उन्होंने कहा कि बिना किसी मानवीय विचार के 17 दिन से पेट्रोल और डीजल की दरें प्रतिदिन बढ़ रही है, जबकि कोरोना महामारी के बढ़ते मामलों से लोग पहले से ही परेशान है।

प्रदेश कार्यालय राजीव भवन में आज आयोजित संवाददाता सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दामों में भारी कमी है, तो सरकार इस संकट की घड़ी में उपभोक्ताओं को फायदा पहुंचाने की बजाय सरकार गरीब लोगों की कीमत पर पैसा कमा रही है। उन्होंने कहा कि आज 2014 की तुलना में पेट्रोल पर 260 प्रतिशत और डीजल पर 820 प्रतिशत अधिक एक्साईज ड्यूटी के रूप में टैक्स वसूला जा रहा है। संवाददाता सम्मेलन में प्रदेश अध्यक्ष चौ0 अनिल कुमार के साथ प्रदेश उपाध्यक्ष श्री मुदित अग्रवाल, आदर्श शास्त्री और श्री परवेज आलम मौजूद थे।

इसी तरह, चौ. अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर वैट की दरों में बढ़ोत्तरी करके दिल्ली के लोगों की परेशानियों को बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि 2014 में पेट्रोल और डीजल पर वैट 15 प्रतिशत था जिसे बढ़ाकर 30 प्रतिशत कर दिया गया है। इससे आम नागरिक को पेट्रोल डीजल पर लगभग 80 रुपये प्रति लीटर देने पड़ रहे है जबकि दुनिया में कच्चे तेल की कीमते कम है।
चौ0 अनिल कुमार ने अपने आरोप को दोहराया कि यह दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अक्षमता, निष्क्रियता और निरंकुश व्यवहार के कारण ही दिल्ली में कोविड-19 महामारी के मरीजों की संख्या 62,654 तक पहुंच गया है और 2233 मौतें (आधिकारिक रूप से रिपोर्ट) हुई है।

चौ. अनिल कुमार ने कहा कि मार्च के बाद से ही दिल्ली सरकार ने यदि दिल्ली कांग्रेस द्वारा बताएं गए सुझावों जैसे टेस्टिंग, ट्रेसिंग और संस्थागत आइसोलेशन आदि पर गौर किया होता तो दिल्ली आज कोविड संकट की स्थिति में नही पहुंचती और कोविड पॉजीटिव रोगियों में इतना तेज उछाल नहीं आता। उन्होंने कहा कि डॉ0 वी.के. पॉल कमेटी रिपोर्ट ने कांग्रेस के सुझावों को मान्यता दी है कि 2 कमरे के मकान से छोटे आवासीय परिसर में होम आइसोलेशन की इजाजत नहीं होगी और राज्य, जिला और वार्ड स्तरों पर निगरानी समितियों के गठन के साथ टेस्ट को बढ़ाने, कांटेक्ट ट्रेसिंग और संस्थागत आईसोलेशन की सिफारिश की गई है।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि मैं जानना चाहता हूं कि केजरीवाल सरकार होम आईसोलेशन पर जोर क्यों दे रही है, क्या वे प्राईवेट कम्पनी को मदद पहुंचा रहे, जो कि होम आईसोलेशन पर मरीजों की देखरेख करेगी, जिस पर उपराज्यपाल को होम आईसोलेशन के अपने फैसले को वापस लेने के लिए मजबूर किया। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि डिस्ट्रिक्ट सर्विलान्स अधिकारी की भूमिका क्या होगी और क्यों आम आदमी पार्टी के सांसद श्री संजय सिंह मरीजों के आईसोलेशन के लिए और अधिक ट्रेन के डिब्बों की मांग कर रहे थे, जबकि आप पार्टी के विधायक राघव चड्ढा ने इस कदम का विरोध करते हुए कहा कि गैर-एसी ट्रेन की बोगी आग भट्टियों जैसी है। चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि यह “मौत की भट्टी’’ जैसी है। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार कांटेन्मेन्ट जोन में रह रहे कोरोना मरीजों और परिवारों को 10,000 रुपये की सहायता प्रदान करे।

चौ0 अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने उपराज्यपाल को आज 23 जून, 2020 को पत्र लिखकर कहा है कि कि हर मरीज को कोविड सेन्टर में बुलाना संभव नहीं है, यह साबित करता है कि कोरोना मरीजों को परिवहन के लिए एम्बुलेंस प्रदान करने में असमर्थता जताना अपनी विफलताओं को स्वीकार करना है। उन्होंने कहा कि यही कारण है कि दिल्ली सरकार चाहती है कि होम क्वारंटाईन को जारी रखना चाहती है।

Share.

Leave A Reply