Wed, Feb 01, 2023
Breaking News
image
सोलेदार की लड़ाई में मारे गए 100 से अधिक रूसी सैनिक /13 Jan 2023 01:54 PM/    23 views

पूर्वी यूक्रेन में नमक की खदान वाले शहर पर कब्जा करने के करीब पहुंची रूसी सेना

मॉस्को । रूसी सेना पूर्वी यूक्रेन में नमक की खदान वाले शहर पर कब्जा करने के करीब पहुंच चुकी है। यूक्रेन के डोनेट्स्क के गवर्नर पावलो किरिलेंको ने टेलीविजन पर कहा कि पिछले 24 घंटों में सोलेदार की लड़ाई में 100 से अधिक रूसी सैनिक मारे गए हैं। वहीं रूस का दावा है कि उसके सैनिक यूक्रेन में बड़ी कामयाबी हासिल करने की ओर बढ़ रहे हैं। रूस ने गुरुवार को कहा कि उसकी सेना पूर्वी यूक्रेन में नमक की खदान वाले शहर पर कब्जा करने के करीब पहुंच गई है। यह सफलता क्रेमलिन के लिए एक बड़ी जीत होगी लेकिन यह बड़े पैमाने पर रूसी सैनिकों के हताहत होने और भारी विनाश की कीमत पर मिलेगी। यूक्रेन के डोनेट्स्क के गवर्नर पावलो किरिलेंको ने टेलीविजन पर कहा कि पिछले 24 घंटों में सोलेदार की लड़ाई में 100 से अधिक रूसी सैनिक मारे गए हैं। रूस की तरफ से व्लादिमीर पुतिन की प्राइवेट आर्मी वैग्नर ग्रुप के भाड़े के सैनिक अग्रिम मोर्चे पर लड़ रहे हैं और जीत का दावा कर रहे हैं। हालांकि कीव का कहना है कि लड़ाई अभी जारी है।
रूसी सेना ने गत दिवस एक दर्जन गांवों व नगरों पर भीषण गोलाबारी की 
यूक्रेन के डोनेट्स्क के गवर्नर पावलो किरिलेंको ने कहा कि रूसी सचमुच अपने सैनिकों के शवों पर होकर आगे बढ़े हैं और उन्होंने अपने रास्ते में आने वाली हर चीज को जला दिया है। खबरों में कहा गया कि रूसी सेना ने विगत दिवस बुधवार को क्षेत्र में एक दर्जन गांवों और नगरों पर भीषण गोलाबारी की। सोलेदार पर बमबारी करने के लिए रूसी सेना मोर्टार और रॉकेट का इस्तेमाल कर रही है। 
यूक्रेन में मिसाइल हमलों से बचने कंक्रीट के सुरक्षा कवच बनाए गए
यूक्रेन में एक ऊर्जा संयंत्र के कर्मचारियों ने रूस के मिसाइल हमलों से बचे ट्रांसफॉर्मर के इर्द-गिर्द कंक्रीट के सुरक्षा कवच बना दिए हैं ताकि भविष्य में मॉस्को के किसी भी संभावित मिसाइल हमले के दौरान उन्हें नुकसान पहुंचने का जोखिम न के बराबर रह जाए। कर्मचारियों ने बिजली संयंत्र के नियंत्रण कक्ष में खिड़कियों के टूटे शीशों पर गत्ता चिपकाने के साथ ही उनके सामने रेत की बोरियों का ढेर लगा दिया है ताकि देश में बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए दिन-रात काम करने वाले कर्मचारियों के रूसी गोलियों या मिसाइलों के हाथों मारे जाने या घायल होने का जोखिम कम हो। मीडिया के अनुसार बिजली संयंत्र के निदेशक का कहना है कि जब तक कोई ऐसा उपकरण बचा है जिसकी मरम्मत मुमकिन है तब तक हम काम जारी रखेंगे।

Leave a Comment