Loading...
Sun, Dec 04, 2022
Breaking News
image
अब काफी बदलाव आया /18 Oct 2022 12:34 PM/    25 views

रोहित ने 2007 के टी-20 विश्वकप के अनुभव का साक्षाकर

नई दिल्ली । भारतीय कप्तान रोहित शर्मा आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप 2022 में टीम के कप्तान हैं। रोहित ने 2007 में पहली बार टी20 विश्व कप में अपनी मौजूदगी को याद किया। रोहित शर्मा उस टूर्नामेंट का हिस्सा थे। उन्होंने विजयी भारतीय का हिस्सा होने और इतने सालों में हुए टी20 के बदलाव को याद किया। रोहित ने खुलासा किया कि वह प्रारूप के बारे में बहुत कम जानते थे। उन्हें तब तक पता नहीं था कि विश्व कप टीम का हिस्सा बनना कैसा रहा था, जब तक भारत ने ट्रॉफी नहीं जीत ली थी। रोहित शर्मा ने प्रेसवार्ता में कहा, जब मुझे उस विश्व कप के लिए चुना गया, तब मैं अपने बारे में किसी उम्मीद के साथ नहीं गया था। उन्होंने बताया कि मैं सिर्फ टूर्नामेंट का आनंद लेना चाहता था। टूर्नामेंट खेलना चाहता था, क्योंकि यह मेरा पहला विश्व कप था। मुझे इस बात की कोई समझ नहीं थी कि विश्व कप का हिस्सा बनना कैसा होता है और जब तक हम वास्तव में विश्व कप नहीं जीत लेते तब तक यह कितना बड़ा होने वाला था। इस साल रोहित अपना 8वां टी 20 विश्व कप खेलने वाले हैं, और टीम के साथी दिनेश कार्तिक सहित चार खिलाड़ियों में से एक होंगे, जो उद्घाटन टी-20 विश्व कप और इस साल दोनों का हिस्सा थे। पिछले कुछ सालों में टी20 क्रिकेट में काफी बदलाव आया है। शैली, दृष्टिकोण सब कुछ बदल गया है। पहले संस्करण में टीम के लिए प्रारूप बिल्कुल नया था, लेकिन अब 15 वर्षों के दौरान सभी टीमों और खिलाड़ियों ने काफी टी20 क्रिकेट का अनुभव कर विभिन्न अंतरराष्ट्रीय लीगों की उपस्थिति के साथ काफी अनुभव प्राप्त किया है। रोहित ने बताया कि यह एक लंबी यात्रा रही है और खेल काफी विकसित हुआ है। आप सचमुच देख सकते हैं, कि यह 2007 की तुलना में अब कैसे खेला जाता है। 140 या 150 तब एक अच्छा स्कोर था और अब लोग 14 या 15 ओवर में उस स्कोर को हासिल करने की कोशिश करते हैं। बता दें कि जब रोहित महज 20 साल के थे, तब उन्होंने पहली बार टी20 वर्ल्ड कप में डेब्यू किया था। उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ खेलने के लिए नामित किया गया था, लेकिन बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला था। तब वे मध्य क्रम के बल्लेबाज थे। इसके बाद उन्हें दूसरे मैच में मेजबान दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेलने का मौका मिला था। इस मैच में रोहित ने 40 गेंदों में नाबाद अर्धशतक जड़ा था। इसके बाद उन्होंने फाइनल मुकाबले में पाकिस्तान के खिलाफ 16 गेंदों में नाबाद 30 रन की पारी खेली थी।

Leave a Comment