Wed, Feb 01, 2023
Breaking News
image
जबरन धर्मांतरण मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मौलवी को गिरफ्तारी से दी अंतरिम राहत /13 Jan 2023 01:47 PM/    24 views

सुप्रीम कोर्ट ने जबरन धर्मांतरण मामले में आरोपी मौलवी को गिरफ्तारी से दी अंतरिम राहत

राहुल शर्मा
नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने प्रलोभन देकर जबरन धर्म परिवर्तन कराने के आरोपी एक मौलवी को शुक्रवार को गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दी। जस्टिस एम आर शाह और सी टी रविकुमार की पीठ ने आरोपी वरवाया अब्दुल वहाब महमूद को 16 जनवरी से 28 जनवरी तक रोजाना सुबह 11 बजे संबंधित जांच अधिकारी के समक्ष पेश होने का निर्देश दिया।सुप्रीम कोर्ट ने जबरन धर्मांतरण मामले में आरोपी मौलवी को गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दी है। मौलवी ने गुजरात उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देते हुए शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया था जिसने पहले उसकी अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी। 
 
जांच अधिकारी के सामने पेश होने का निर्देश
पीठ ने कहा, आरोप और प्रत्यारोप पर जाने से पहले, याचिकाकर्ता को पूछताछ और जांच के लिए 16 जनवरी से 28 जनवरी के बीच सुबह 11 बजे जांच एजेंसी/अधिकारी के सामने पेश होने दें। इसके बाद मामले की गुण-दोष पर विचार किया जाएगा।श्श् शीर्ष अदालत ने कहा कि इसके बाद 13 फरवरी को मामले पर गुण-दोष के आधार पर विचार किया जाएगा।
मौलवी ने गुजरात उच्च न्यायालय के आदेश को दी चुनौती
याचिकाकर्ता की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता दुष्यंत दवे ने कहा कि वरवाया एक इस्लामिक विद्वान हैं और बच्चों को पढ़ाने में शामिल हैं। मौलवी ने गुजरात उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती देते हुए शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया था, जिसने पहले उसकी अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी।
हिंदू परिवारों का कराया धर्मांतरण
प्राथमिकी के अनुसार, आरोपियों ने अन्य लोगों से वित्तीय सहायता और सहायता प्राप्त करने पर कथित रूप से लगभग 37 हिंदू परिवारों और 100 हिंदुओं को वित्तीय सहायता प्रदान करके धर्मांतरण किया और सरकार के धन से बने एक घर को इबादतगाह, पूजा स्थल में परिवर्तित कर दिया।

Leave a Comment