Loading...
Sun, Dec 04, 2022
Breaking News
image
कंपनी ने ऐसी आधुनिक थैरेपी शुरु की /04 Nov 2022 11:41 AM/    18 views

डर भागने के लिए जिंदा ही कब्र में दफ्न करने की तैयारी

वाशिंगटन । इंसान को एंजाइटी या घबराहट होना नया नहीं है। दिमाग पर किसी डर का हावी होना कि वहां हर वक्त आपको सताता रहे, यहीं डर जब लंबे समय तक साथ नहीं छोड़ता तब बड़ी परेशानी खड़ी कर सकता है। लोग इससे बचने के लिए कई तरीके की थैरेपी और दवाइयों का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन एक कंपनी ने घबराहट का ऐसा इलाज निकाला है कि सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे। जो लोग घबराहट और डर से कुछ ज्यादा ही परेशान हैं उनके लिए कंपनी ने ऐसी आधुनिक थैरेपी शुरु की है, जिसमें वहां एंजाइटी से परेशान लोगों को जिंदा जमीन में गाड़ने की तैयारी कर रही है।  अगर आप भी एंजाइटी और डर जैसी समस्या से जूझ रहे हैं, तब जिंदा दफन होने के लिए तैयार हो जाए। एक कंपनी थैरपी के नाम पर 47 लाख में एक ऐसा पैकेज लेकर आई है, जिसमें 60 मिनट तक जिंदा ही कब्र में दफ्न कर घबराहट से निजात दिलाई जाएगी। क्या डर भगाने के लिए जिंदगी का रिस्क लेने के लिए आप हैं तैयार?
कंपनी ने एक ऐसी अजीबोगरीब थैरेपी इजाद की है। जिसमें एंजाइटी और डर से ग्रसित लोगों को जिंदा दफ्न कर उनका इलाज किया जाता है। इस थैरपी का नाम है ‘स्ट्रेस थैरपी है। जो 47,00,000 में उपलब्ध हैं। इसके तहत मरीज को 40-60 मिनट तक कब्र में रहना होगा। इस अनोखी थैरेपी का ऑनलाइन वर्जन भी उपलब्ध होगा। जिसके लिए आपको सिर्फ 12,00,000 अदा करना होगा। स्ट्रेस थैरेपी की शुरुआत करने वाली कंपनी का दावा है की उनका ये पैकेज लोगों को डर और एंजाइटी से निपटने में काफी मदद कर सकता है। इसके बारे में उन्होंने विस्तार से अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर जानकारी दी है। कंपनी का दावा है कि यह ‘स्ट्रेस थैरेपी पूरी तरीके से सुरक्षित है। जिंदा दफन होने के बावजूद इंसान की जान को कोई खतरा नहीं होगा। इस थैरेपी के बारे में जैसे ही जानकारी फैली, बहुत से लोगों ने संपर्क करना शुरू कर दिया। लेकिन ये थैरेपी हर किसी के लिए नहीं होगी। कई विकल्पों में से एक चुनने का मौका दिया जाएगा। कंपनी का दावा है की कब्र में दफनाए मरीज की सुविधा का पूरा ख्याल रखा जाएगा। उस म्यूजिक सुनने को मिलेगा। साथ ही लाइटिंग के लिए मोमबत्तियां भी दी जाएगी। ताकि वहां बैठे बैठे अपनी वसीयत लिखने का काम पूरा कर सके। ये अजीबो गरीब थैरेपी रूस में शुरू की गई है। जिसके पीछे कंपनी का तर्क है कि यह थैरपी लोगों को खुद से लड़ने को लेकर प्रेरित करेगी और जीवन में खुश होने के लिए एक वजह देगी। 
 
 

Leave a Comment