Wed, Feb 01, 2023
Breaking News
image
बोलें- कड़ी मेहनत रंग लायी /12 Jan 2023 12:44 PM/    19 views

नाटू-नाटू का 10ः पार्ट लिखने में चंद्रबोस को लगे थे महीनों

सोनिया शर्मा
नई दिल्ली । अमेरिका के लॉस एंजेलिस में आयोजित 80 वें गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड्स 2023 में एसएस राजामौली की फिल्म ने इतिहास रच दिया। इस फिल्म के गाने नाटू नाटू ने बेस्ट ओरिजिनल सॉन्ग का अवॉर्ड जीता है। गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड्स के दौरान अवॉर्ड लेते वक्त स्टेज पर नाटू नाटू के कंपोजर एमएम कीरावानी काफी इमोशनल हो गए थे। उन्होंने इस अवॉर्ड के लिए पूरी टीम को बधाई दी थी। सोशल मीडिया पर भी स्टार्स से लेकर फैंस तक ने अवॉर्ड पाने के बाद पूरी टीम को बधाई दी। ऐसे में अब नाटू नाटू गाने को लिखने वाले तेलुगु के मशहूर गीतकार और सिंगर चंद्रबोस ने अपने एक इंटरव्यू में बताया कि अवॉर्ड विनिंग सॉन्ग को लिखने में कितना वक्त लगा। 2023 80 वें गोल्डन ग्लोब 2023 में नाटू नाटू को बेस्ट ऑरिजिनल मोशन पिक्चर सॉन्ग की कैटेगरी में सफलता हासिल की है। ये गाना साउथ सुपरस्टार्स राम चरण और जूनियर एनटीआर पर फिल्माया गया था। आइए जानते हैं इस गाने को लिखने में कितना वक्त लगा था।
सपने में भी नहीं सोचा था
गीतकार और सिंगर चंद्रबोस ने एएनआई से खास बातचीत की है। उन्होंने इंटरव्यू में कहा, नाटू नाटू गाने को अवॉर्ड मिलने के बाद वो काफी खुश हैं। ये मेरे लिए बहुत यादगार पल हैं। गोल्डन ग्लोब पुरस्कार जीतना, यह मेरे लिए बहुत बड़ी बात है। मैंने इस चीज की उम्मीद सपने में भी नहीं की थी।
 
गाना लिखने में लगा इतना वक्त
चंद्रबोस ने आगे कहा, सबसे पहले, मैं एसएस राजामौली और एमएम कीरावनी को आरआरआर के लिए मुझे एक गीत लिखने का अवसर देने के लिए दिल से धन्यवाद देना चाहता हूं। सच कहूं तो गाना बनाने में मुझे काफी वक्त लगा।  90 प्रतिशत गीत आधे दिन में ही लिख दिया था, जिसे काफी पसंद किया गया था। बाकी का 10 फीसदी में एक साल सात महीने का लंबा वक्त लगा, लेकिन आज मेरे प्रयास, कड़ी मेहनत और धैर्य का फल मिला है।
नाटू-नाटू को किया गया था यूक्रेन में शूट  
बता दें नाटू-नाटू गाने को अगस्त, 2021 में फिल्माया गया था। इस गाने को यूक्रेन के मरिंस्की पैलेस में शूट किया गया था। गाने का हुक स्टेप इतना ज्यादा वायरल हुआ कि लोगों ने सोशल मीडिया पर इसके साथ कई वीडियो बनाए। यह गाना हिंदी में नाचो नाचो, तमिल में नाट्टू कूथु, कन्नड़ में श्हल्ली नातुश् और मलयालम में करिन्थोल के रूप में भी जारी किया गया था। इसके हिंदी वर्जन को राहुल सिप्लिगुंज और विशाल मिश्रा ने गाया था।

Leave a Comment