Wed, Feb 01, 2023
Breaking News
image
विदेश यात्रा पर जापानी प्रधानमंत्री किशिदा /09 Jan 2023 10:44 AM/    14 views

अमेरिकी राष्ट्रपति से खास मुलाकात

टोक्यो, । जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा एक हफ्ते की विदेश यात्रा पर है। इस यात्रा के दौरान किशिदा फ्रांस इटली ब्रिटेन कनाडा के साथ ही उन देशों में भी जा सकते हैं जिनके साथ जापान ने रक्षा संबंधों को आगे बढ़ाया है। जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा एक सप्ताह की लंबी विदेश यात्रा पर निकले हैं। इस यात्रा के दौरान यूरोप और ब्रिटेन के साथ सैन्य संबंधों को मजबूत करने और वाशिंगटन में एक शिखर सम्मेलन में जापान-अमेरिका गठबंधन पर ध्यान केंद्रित करने की कोशिश करेंगे। शुक्रवार को अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन से बातचीत के दौरान किशिदा ने बताया कि वे पांच देशों का दौरा करने वाले हैं जिसमें फ्रांस, इटली, ब्रिटेन, कनाडा और सात देशों के समूह में से किन्हीं देशों में जाएंगे जिनके साथ जापान ने रक्षा संबंधों को आगे बढ़ाया है। सोमवार को पहले किशिदा पेरिस जाएंगे और फिर आगे की यात्राओं के बारे में सोचेंगे।
 
मिसाइल इंटरसेप्टर काफी नहीं है
प्रधानमंत्री किशिदा ने कहा कि बाइडेन के साथ उनकी शिखर वार्ता जापान-अमेरिका रिश्ते को और मजबूत करेगी और इस बात पर ध्यान देगी कि आखिर कैसे दोनों देश जापान की नई सुरक्षा और रक्षा रणनीतियों के तहत काम कर सकते हैं। दिसंबर में जापान ने रक्षा सुधारों को अपनाते हुए एक काउंटरस्ट्राइक मिसाइल को देश में शामिल है लेकिन उनका मानना है कि चीन और उत्तर कोरिया में तेजी से बढ़ते हथियारों से बचाव के लिए मिसाइल इंटरसेप्टर काफी नहीं है।
 
दोनों देश एक साथ मिलकर चीन का मुकाबला कर सकते हैं
किशिदा का कहना है कि वह अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडेन को जापान की नई रणनीति समझाएंगे जिसके जरिए जापान योनागुनी और इशिगाकी सहित ताइवान के करीब दक्षिण-पश्चिमी द्वीपों पर बचाव को मजबूत करने के लिए नए ठिकानों का निर्माण कर रहा है। किशिदा ने एक टीवी शो में बात करते हुए कहा कि वो जो बाइडेन को समझाएंगे कि कैसे ये दोनों देश गठबंधन कर के इंडो-पैसिफिक को खोलने के लिए एक साथ काम करते हैं। उन्होंने कहा, दोनों देश राष्ट्रीय और आर्थिक सुरक्षा सहयोग की दृष्टि से चीन के बढ़ते सैन्य और आर्थिक प्रभाव का मुकाबला कर सकते हैं।
 
बाइडेन ने जापान की सभी रणनीतियों को सराहा
नई रणनीतियों के तहत, जापान ने 2026 तक लंबी दूरी की क्रूज मिसाइलों को तैनाती शुरू करने की योजना बनाई है जो चीन में संभावित लक्ष्यों तक पहुंच सकती हैं। इस प्लानिंग को जल्द से जल्द पूरा करने की तैयारी है क्योंकि रक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि चीनी राष्ट्रपति शी जिंगपिन ताइवान के खिलाफ कार्रवाई कर सकते हैं, जिसे बीजिंग अपने क्षेत्र के हिस्सा का दावा करता है। जापान की नई रणनीति को बाइडेन प्रशासन और कांग्रेस के कुछ सदस्यों ने सराहा है। शिखर सम्मेलन की चर्चा करने के लिए जापानी रक्षा मंत्री यासुकाज़ु हमादा और विदेश मंत्री योशिमासा हयाशी बुधवार को अमेरिकी लॉयड ऑस्टिन और एंटनी ब्लिंकेन से मिलने के लिए वाशिंगटन जाएंगे। इसके बाद गुरुवार को अलग-अलग रक्षा मंत्रियों की बातचीत भी होगी। विशेषज्ञों का कहना है कि जापान और संयुक्त राज्य अमेरिका भी कथित तौर पर एक संयुक्त कमान स्थापित करने पर विचार कर रहे हैं।
3जापानी अधिकारियों ने कहा कि व्हाइट हाउस में बातचीत के दौरान दोनों नेताओं के चीन, उत्तर कोरिया के परमाणु और मिसाइल विकास के साथ-साथ यूक्रेन पर रूस के युद्ध पर भी चर्चा करने की उम्मीद है। जापान और ब्रिटेन एक रेसिप्रोकल एक्सेस अग्रिमेंटष् पर भी चर्चा कर रहे हैं जो दोनों देशों में संयुक्त सैन्य अभ्यास आयोजित करने में आने वाली बाधाओं को दूर करेगा। इस ही इस समझौते कि तहत यू.एस. सैनिकों को जापान में तैनात करने की अनुमति देती है। फिलहाल टोक्यो का ये समधौता केवल ऑस्ट्रेलिया के साथ है और दूसरा ब्रिटेन होगा।

Leave a Comment