Wed, Feb 01, 2023
Breaking News
image
डब्ल्यूएचओ की सलाह /12 Jan 2023 11:56 AM/    17 views

बच्चों को ना पिलाएं नोएडा के मैरियन बायोटेक कंपनी के कफ सिरप

जिनेवा, । विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सिफारिश की है कि उज्बेकिस्तान में बच्चों के लिए नोएडा  की कंपनी मैरियन बायोटेक द्वारा बनाए गए दो कफ सिरप  का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। बुधवार को एक चिकित्सा उत्पाद चेतावनी में ने कहा कि मैरियन बायोटेक  द्वारा निर्मित घटिया चिकित्सा उत्पाद ऐसे उत्पाद हैं जो गुणवत्ता मानकों पूरा नहीं करते हैं।
 उज्बेकिस्तान में बच्चों की मौत के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मैरियन बायोटेक कंपनी द्वारा बनाए गए कफ सिरप को गुणवत्ता मानकों के विपरीत बताया है। इसे बच्चों के लिए उपयोग ना करने की सलाह दी है।
 
पूरे नहीं होते गुणवत्ता मानक
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपनी वेबसाइट पर जारी एक अलर्ट में कहा, ये ॅभ्व् मेडिकल प्रोडक्ट अलर्ट दो दूषित उत्पादों को संदर्भित करता है जो उज्बेकिस्तान में पहचाना गया। इसे 22 दिसंबर 2022 को को रिपोर्ट किया गया। दूषित चिकित्सा उत्पाद ऐसे उत्पाद हैं जो गुणवत्ता मानकों या विशिष्टताओं को पूरा करने में विफल हैं। अलर्ट में कहा गया कि दो उत्पाद ।डठत्व्छव्स् सिरप और मैक्स सिरप हैं। दोनों उत्पादों के घोषित निर्माता मैरियन बायोटेक प्राइवेट लिमिटेड (उत्तर प्रदेश, भारत) हैं। निर्माता ने को इन उत्पादों की गुणवत्ता को लेकर गारंटी प्रदान नहीं की है।
 
कफ सिरप के सैंपल की जांच
डब्ल्यूएचओ के अनुसार, उज्बेकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय के राष्ट्रीय गुणवत्ता नियंत्रण प्रयोगशालाओं में कफ सिरप के सैंपल की जांच की गई। जांच में पाया गया कि दोनों प्रोडक्ट में दूषित पदार्थों के रूप में डायथिलीन ग्लाइकोल या एथिलीन ग्लाइकोल की मानक के विपरीत मात्रा शामिल है। डब्ल्यूएचओ की तरफ से ये भी कहा गया कि इन दोनों प्रोडक्ट की अन्य देशों में भी मार्केटिंग अथॉरिटी हो सकती हैं। उन्हें अनौपचारिक बाजारों के जरिए अन्य देशों या क्षेत्रों में भी डिस्ट्रीब्यूट किया जा सकता है। संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा कि प्रोडक्ट असुरक्षित हैं और विशेष रूप से बच्चों में, इसके उपयोग से गंभीर हालत या मृत्यु हो सकती है।
 
मैरियन बायोटेक कंपनी का उत्पादन लाइसेंस निलंबित
गौरतलब है कि 22 दिसंबर को उज्बेकिस्तान ने आरोप लगाया था कि मैरियन बायोटेक कंपनी द्वारा निर्मित कफ सिरप पीने से 19 बच्चों की मौत हो गई है। इस संबंध में मंगलवार को उत्तर प्रदेश खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग ने मैरियन बायोटेक कंपनी का उत्पादन लाइसेंस सस्पेंड कर दिया था। ड्रग्स इंस्पेक्टर वैभव बब्बर ने बताया कि पर्याप्त दस्तावेज उपलब्ध नहीं करा पाने की वजह से मैरियन बायोटेक कंपनी के उत्पादन लाइसेंस को निलंबित कर दिया गया है।

Leave a Comment